मेड इन चाइना ही है कोरोना

0
51

ब्रिटेन और नावें के विज्ञानियों के शोध के नतीजे सामने आने के बाद अब यह आशंका एकदम सच के करीब आने लगी है कि यह वायरस प्राकृतिक नहीं मानव निर्मित है। यह चमगावड़ से नहीं, बल्कि चीन के वुहान स्थित लैब से फैला है। वायरस की उत्पत्तिको लेकर आस्ट्रेलिया सरीखे देश की ओर से पहली बार आवाज उठने, अमेरिका राष्ट्रपति जो बाइडन के 90 दिन में इसका पता लगाने का आदेश देने और भारत की ओर से वैश्विक जांच का समर्थन किए जाने के बाद चीन के लिए अब इसकी जवाबदेही से बच पाना और मुश्किल हो सकता है।

ब्रिटेन के प्रोफेसर एंगस डल्गलिश और नार्वे के विज्ञानी डा. बिर्गर सोरेनसिन ने अपने नए अध्ययन में कहा है कि कोरोना वायरस को चीन के विज्ञानियों ने वुहान की लैब में ही तैयार किया था। वायरस को रिवर्स-इंजीनियरिग वर्जन से छिपाने की कोशिश की, जिससे यह लगे कि कोरोना वायरस चमगावड़ से प्राकृतिक रूप से विकसित हुआ है। इन दोनों के अध्ययन के हवाले से डेली मेल ने कहा है कि इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि नोवेल कोरोना वायरस सार्स -कोव-2 प्राकृतिक रूप से पैदा हुआ है।

ऐसे आया वायरस
1. चीन ने रिवर्स-इंजीनियरिंग वर्जन का लिया सहारा
2. ‘गेन आफ फंक्शन’ प्रोजेक्ट पर काम करने वाले चीनी विज्ञानियों ने तैयार किया वायरस
3. चीन की लैब ने जानबूझकर डाटा नष्ट किया, छिपाया या उसमें छेड़छाड़ की
4. इसके खिलाफ आवाज उठाने वाले विज्ञानियों को चीन ने या तो चुप करा दिया या गायब करा दिया
5. चीनी विज्ञानियों ने वायरस तैयार करने के लिए उपकरण बनाए इसमें अमेरीकी यूनिवर्सिटी में काम करने वाले भी शामिल थे

ads

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here