इजरायल ने 40 मिनट में दागीं 450 मिसाइलें, हमास के 150 ठिकानों को किया टारगेट

0
25
इजरायल ने 40 मिनट में दागीं 450 मिसाइलें, हमास के 150 ठिकानों को किया टारगेट

इजरायल ने 40 मिनट में दागीं 450 मिसाइलें, हमास के 150 ठिकानों को किया टारगेट: इजरायल और हमास के बीच संघर्ष तमाम अपीलों के बाद भी थमा नहीं है। बीती रात को इजरायल ने हमास में जोरदार हमले करते हुए महज 40 मिनट के अंदर ही 450 से ज्यादा मिसाइलें दागीं। इनके जरिए इजरायल ने हमास के 150 से ज्यादा ठिकानों को टारगेट किया और भारी नुकसान पहुंचाया। इजरायल डिफेंस फोर्स ने बताया कि उसने मिसाइलों के जरिए अब तक की सबसे बड़ी बम वर्षा की है। उसने अपने इन हमलों में हमास के सुरंगी ठिकानों को नुकसान पहुंचाया है। हमास से छिड़े संघर्ष में इजरायल ने अब तक अपने आयरन डोम एरियल डिफेंस सिस्टम के जरिए दुश्मन के रॉकेटों को बड़ी संख्या में आसमान में ही नेस्तनाबूद कर दिया। वहीं अपनी मिसाइलों से गजा में बड़ी संख्या में इमारतों को ध्वस्त किया है।

इजरायली सेना के हमलों में अब तक गजा पट्टी में 111 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें 31 बच्चे और 19 महिलाएं भी शामिल हैं। बीते 4 दिनों में इजरायल की ओर से की गईं एयरस्ट्राइक्स में ये मौतें हुई हैं। वहीं इजरायल के 8 नागरिकों की मौत हुई है। यही नहीं इजरायल के कई शहरों में भी गृहयुद्ध सरीखे हालात हैं। कई जगहों पर यहूदियों और अरबों के बीछ झड़पों की खबरें सुनने को मिली हैं।  गजा की हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक इजरायल की ओर से किए गए हमलों में 800 से ज्यादा नागरिक जख्मी भी हुए हैं। इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन समेत दुनिया के कई नेताओं ने शांति की अपील की है।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने इजरायल और फलीस्तीन से शांति की अपील की है। मैक्रों ने अरबी और हिब्रू दोनों ही भाषाओं में अलग-अलग ट्वीट कर तत्काल शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की है। मैक्रों ने लिखा, ‘मध्य पूर्व के देशों में हिंसा का चक्र तत्काल रुकना चाहिए। मैं संघर्ष विराम और संवाद की मांग करता हूं। शांति और सौहार्द की मांग करता हूं।’ हालांकि अब तक इजरायल और हमास की ओर से शांति के कोई संकेत नहीं मिले हैं। इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतान्याहू ने हमास के चेतावनी देते हुए कहा है कि उसे आक्रामकता की भारी कीमत चुकानी होगी। 

ads

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here