नकली करेंसी छापने वाले गिरोह पर कार्रवाई, 30 लाख रुपये के नकली नोट के साथ 6 गिरफ्तार

0
9

मध्य प्रदेश के इंदौर संभाग के खरगोन जिले में पुलिस ने 6 लोगों एक गिरोह को गिरफ्तार किया है। जो नकली करेंसी बनाने और मार्केट में चलाने का काम करता है। साथ ही इस गिरोह के पास से 30.65 लाख रुपये के नकली नोट भी बरामद हुए है। गिरफ्तार होने वालों आरोपियों में आगर के अनंदीखेड़ा का 23 वर्षीय जितेंद्र भाटी, भीकनगांव का 30 वर्षीय संजय जोगी, पंधाना पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले बोरगांव का 20 वर्षीय साहिल पवार, बामनाला का 39 वर्षीय नरेंद्र पवार, गोगावन पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले तेमारनी का 28 वर्षीय विजय उर्फ कान्हा सिंह और इंदौर के लसूड़िया क्षेत्र का 32 वर्षीय जगदीश तोमर शामिल है।

प्रकरण पर जानकारी देते हुए एसपी शैलेंद्र सिंह ने बताया कि हमें प्रारंभिक जांच के दौरान पता चला कि यह आरोपी गांव के बाजार में जाली मुद्रा प्रसारित करना चाहते थे, लेकिन पुलिस छापे ने उनके प्लान को विफल कर दिया। सिंह ने कहा कि जितेंद्र के ग्रामीण क्षेत्रों में जाली मुद्रा की छपाई और प्रचलन में शामिल होने के बारे में भी पता चला है। साथ ही दो और आरोपी साहिल और संजय भी इन अवैध गतिविधियों में शामिल थे। 

इस गिरोह के बारे में प्राप्त सूचना के आधार पर पुलिस की एक विशेष टीम गठित की गई थी। इसके बाद पुलिस ने बलकवाड़ा रोड पर सिंहजी मंदिर के पास तीन मोटरसाइकिलों पर पांच लोगों को देखा। इसके बाद आरोपियों ने जैसे ही पुलिस को देखा, वे भागने लगे। फिर पुलिस ने पीछा कर उन्हें पकड़ लिया और उन्हें हिरासत में लिया। पुलिस ने नरेंद्र पंवार को 5 लाख रुपए के 2000 और 500 रुपये के नकली नोटों के साथ गिरफ्तार किया है। 

वहीं, जितेंद्र को 4 लाख रुपये एवं संजय, साहिल और विजय को 3 लाख रुपये प्रति व्यक्ति के जाली नोट के साथ गिरफ्तार किया है। बाद में पुलिस जितेंद्र को इंदौर ले गई और जगदीश तोमर को लसूड़िया पुलिस स्टेशन की सीमा के तहत तलावली इलाके से गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसके कब्जे से 4.65 लाख रुपये भी बरामद किए। पुलिस ने दो प्रिंटर, पेपर, पेपर कटर, तीन मोटरसाइकिल और 8 लाख रुपये की जाली मुद्रा के साथ अन्य उपकरण भी बरामद किए। पुलिस ने उनके खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

ads

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here